BBC navigation

रिलांयस करेगा एक लाख करोड़ रुपये निवेश

 शुक्रवार, 8 जून, 2012 को 12:34 IST तक के समाचार
मुकेस-नीता अंबानी

कंपनी शेयर धारकों की सालाना बैठक में मुकेश अंबानी और नीता अंबानी.

पिछली दो तिमाही में लगातार कम हुए मुनाफे के बीच हुई शेयर धारकों की बैठक में रिलांयस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने अगले पांच सालों में एक लाख करोड़ रुपये निवेश करने की घोषणा की है.

गुरुवार को हुई इस घोषणा के बाद रिलांयस के शेयर में 0.75 फीसद की बढ़ोतरी दर्ज की गई.

हालांकि समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने एक शेयर धारक धरमेश गोसालिया के हवाले से कहा है कि वो "आने वाले दो-तीन सालों में कंपनी में बहुत वृद्धि की गुंजाइश नहीं देखते" क्योंकि जिन क्षेत्रों में उन्होंने पैसे लगा रखे हैं उसमें सुस्ती का दौर है और "उनके समक्ष विकास की बहुत गुंजाइश नहीं है."

हालांकि मुकेश अंबानी ने निवेश की घोषणा तब की है जब भारत में विकास की दर धीमी है और उद्योग जगत में सरकार की नीति निर्धारण को लेकर चिंता का माहौल है.

लेकिन मुकेश अंबानी ने शेयर धारकों से कहा कि अगर रिलांयस ने संशयवादी बातों पर ध्यान दिया होता तो "हम अभी भी टेक्सटाइल क्षेत्र तक ही सीमित रहते."

मुनाफे में इजाफा

मुकेश अंबानी ने कहा कि कंपनी का गैस उत्पादन जो गिरकर 35 मिलियन मेट्रिक स्टैंडर्ड क्यूबिक मीटर प्रतिदिन चला गया है, वो अगले तीन सालों में 60 मिलियन मेट्रिक स्टैंडर्ड क्यूबिक मीटर तक पहुंच जाएगा, जबकि रिटेल उद्योग से आमदनी में छह गुना बढ़ोतरी होगी.

उन्होंने रिटेल क्षेत्र के 50,000 करोड़ रुपये जाने की बात कही.

उनका कहना था कि ब्रॉडबैंड वायरलेस को लेकर कंपनी की योजना जो तैयार हो रही है वो भी कंपनी के फैलाव में काफी योगदान देगी.

लेकिन विश्लेषकों का मानना है कि नए क्षेत्रों पर कंपनी का ध्यान इस बात को उजागर करता है कि रिलांयस तेल और गैस के क्षेत्र में कंपनी की उपलब्धियों से बहुत उत्साहित नहीं है.

केजी बेसिन में गैस उत्पादन में आई कमी को लेकर सरकार और रिलांयस के बीच विवाद की स्थिति पैदा हो गई है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.