एटीएम के मुफ़्त इस्तेमाल पर सीमा

पाँच महीने पहले भारत में अन्य बैंकों के एटीएम इस्तेमाल करने पर सेवा शुल्क को ख़त्म कर दिया गया था. लेकिन अब इस पर शर्त लगाने की तैयारी चल रही है.

सिटी बैंक एटीएम

एटीएम के मुफ़्त इस्तेमाल पर सीमा लगेगी

रिजर्व बैंक का कहना है कि अगर अन्य बैंकों के एटीएम का इस्तेमाल एक महीने में पाँच बार से ज़्यादा किया जाता है, तो सेवा शुल्क देना होगा.

रिजर्व बैंक का ये भी कहना है कि अन्य बैंकों के एटीएम से एक बार में 10 हज़ार रुपए से ज़्यादा की राशि नहीं निकाली जा सकती.

इंडियन बैंक्स एसोसिएशन (आईबीए) को इस बारे में रिजर्व बैंक की ओर से निर्देश भेजा गया है. लेकिन नई व्यवस्था अक्तूबर से लागू हो पाएगी.

एसोसिएशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रामाकृष्णन ने बताया है कि इसे जल्द ही लागू किए जाने की संभावना है.

भारत में निजी और सरकारी बैंकों के प्रतिनिधि संगठन आईबीए ने प्रस्ताव रखा था कि अन्य बैंकों के एटीएम से मुफ़्त में असीमित रूप से पैसे निकालने की बजाए इसकी एक सीमा निर्धारित की जाए.

प्रस्ताव

आईबीए ने अपने प्रस्ताव में एक महीने में पाँच बार अन्य बैंकों के एटीएम इस्तेमाल करने की बात कही थी. जो रिजर्व बैंक ने मान ली है.

हमने यह प्रस्ताव रखा है कि अन्य बैंकों के एटीएम पाँच बार से ज़्यादा इस्तेमाल करने पर हर बार 20 रुपए देने पड़ेंगे

के उन्नीकृष्णन

आईबीए के उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी के उन्नीकृष्णन ने बताया, "हमने यह प्रस्ताव रखा है कि अन्य बैंकों के एटीएम पाँच बार से ज़्यादा इस्तेमाल करने पर हर बार 20 रुपए देने पड़ेंगे."

उन्होंने बताया कि रिजर्व बैंक ने उनके प्रस्ताव को मान लिया है लेकिन नई व्यवस्था अक्तूबर से ही लागू हो पाएगी.

के उन्नीकृष्णन ने यह भी स्पष्ट किया कि उपभोक्ताओं से सर्विस चार्ज लेना या न लेना बैंकों पर छोड़ा जा रहा है. इसका फ़ैसला बैंकों पर छोड़ा जा रहा है.

भारत में 40 हज़ार से ज़्यादा एटीएम हैं. जिनमें से 30 हज़ार शहरी केंद्रों या मेट्रो शहरों में हैं.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.